मोदी को बचाने के लिए हटाया वर्मा को: कांग्रेस

नई दिल्ली। सीबीआई के निदेशक पद से हटाए गए आलोक वर्मा के पक्ष में खुल कर उतरते हुए कांग्रेस पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाना बनाया है। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि प्रधानमंत्री मोदी को बचाने के लिए वर्मा को हटाया गया है। कांग्रेस ने यह भी कहा है कि तोता पिजड़े से उड़ जाता तो सारे राज खोल देता। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राफेल मामले में बचाने के लिए सरकार केंद्रीय सतर्कता आयोग, सीवीसी जैसी संस्था की आड़ में लुकाछिपी खेल रही है।

कांग्रेस के प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने पत्रकारों से कहा- यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि मोदी सरकार इस तरह से संस्थाओं को खत्म कर रही है। वह सीबीआई को अस्थिर करने और दूसरी संस्थाओं को कमजोर करने की जिम्मेदारी से भाग नहीं सकती। उन्होंने कहा- मोदी सरकार जानती है कि एक व्यक्ति के शासन के दौर के अंत की शुरुआत हो गई है।

सिंघवी ने कहा- उच्चस्तरीय चयन समिति को कम से कम वर्मा का पक्ष सुनना चाहिए था। कोई पक्ष नहीं सुना गया और कोई सबूत नहीं देखा गया। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा- कार्रवाई का पूरा आधार अगर सीवीसी रिपोर्ट है तो क्या इसका अवलोकन नहीं होना चाहिए था? यह रिपोर्ट खोखली है। इनमें लगाए गए ज्यादातर आरोप मजाक हैं। बहाना बना कर आलोक वर्मा को हटाया गया। उन्होंने कहा- यह हैरानी की बात है कि किस प्रकार से सीवीसी का दुरुपयोग किया गया और सीवीसी ने अपना दुरुपयोग होने दिया। हम इसकी निंदा करते हैं।

कांग्रेस के एक दूसरे वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने भी नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा और दावा किया कि पिजड़े में बंद तोते को उड़ने नहीं दिया गया क्योंकि वह सत्ता के गलियारे के सारे राज खोल देता। सिब्बल ने ट्विट कर कहा- आलोक वर्मा को हटाया गया। समिति ने सुनिश्चित किया कि पिजड़े में बंद तोता उड़ न सके क्योंकि इसका डर था कि कहीं ये तोता सत्ता के गलियारे के राज नहीं खोल दे। उन्होंने तंज करते हुए लिखा - पिजड़े में बंद तोता अभी बंद ही रहेगा।

112 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।