कश्मीरियों के खिलाफ नहीं लड़ाई: मोदी

टोंक (राजस्थान)। पुलवामा में 14 फरवरी को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकवादी हमले के बाद देश के अलग अलग हिस्सों में कश्मीरी छात्रों और कारोबारियों पर हो रहे हमले को लेकर पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चुप्पी तोड़ी। उन्होंने कहा कि कश्मीरियों पर हमला नहीं होना चाहिए। प्रधानमंत्री ने शनिवार को कहा - हमारी लड़ाई कश्मीर के लिए है, कश्मीरियों के खिलाफ नहीं है।

प्रधानमंत्री मोदी ने एक जनसभा में कहा - हमारी लड़ाई कश्मीर के लिए है, कश्मीरियों के खिलाफ नहीं है। कश्मीरी बच्चों की सुरक्षा की जिम्मेदारी हमारी है। कश्मीर का बच्चा बच्चा आतंकवादियों के खिलाफ है। हमें उसे अपने साथ रखना है। उन्होंने कहा कि अमरनाथ की यात्रा करने लाखों श्रद्धालु जाते हैं, उनकी देखभाल कश्मीर का बच्चा करता है। अमरनाथ यात्रियों को जब गोली लगी तो कश्मीर के मुसलमान खून देने के लिए कतार लगा कर खड़े हो गए थे।

मोदी ने कहा - हमारी लड़ाई आतंकवाद के खिलाफ है, कश्मीर के खिलाफ नहीं है। पिछले दिनों कश्मीरी बच्चों के साथ हिंदुस्तान के किसी कोने में क्या हुआ, क्या नहीं हुआ, घटना छोटी थी या बड़ी थी, मुद्दा यह नहीं है। इस देश में यह होना नहीं चाहिए। कश्मीर में जैसे हिंदुस्तान के जवान शहीद होते हैं, वैसे ही कश्मीर के लाल भी इन आतंकवादियों की गोलियों से शहीद होते हैं। ऐसी हरकतें उन लोगों को ताकत देते हैं जो भारत तेरे टुकड़े होंगे गैंग को आशीर्वाद देने जाते हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा - अगर हमें आतंकवाद को जड़ से उखाड़ना है तो गलती नहीं करनी है। मोदी ने कहा कि आम कश्मीरी भी आतंकवाद से मुक्ति चाहता है, लेकिन पहली सरकारों ने ऐसे बीज बोए की उनके सपने पूरे नहीं हुए। उन्होंने पाकिस्तान को भी चेतावनी दी और कहा कि इस बार सबका हिसाब लिया जाएगा। आतंकवाद के खिलाफ अपनी सरकार की लड़ाई का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा - आपका ये प्रधान सेवक दुनिया भर में आतंकियों का दाना पानी बंद करने में जुटा है। दुनिया में तब तक शांति संभव नहीं है, जब तक आतंक की फैक्टरियां चलती रहेंगी। उन्होंने कहा कि आतंक की फैक्टरियों पर ताला लगाना का काम मेरे ही हिस्से लिखा है, तो ऐसा ही सही।

83 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।