मोदी ने कमजोर लोगों को ‘करोड़पति बनायाः प्रधान

नई दिल्ली। पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने गुरुवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पारदर्शी तरीके से सरकार चलाने के मंत्र से पेट्रोल पंपों के आवंटन में ‘गोरखधंधा पर अंकुश लगाने में बड़ी कामयाबी मिली है। प्रधान ने यहां मावलंकर हाल में वर्ष 2018-19 के लिए लाटरी के जरिये पेट्रोल पंप आवंटन के लिए पात्र पाये गये लाभार्थियों को आशय पत्र जारी करते हुए कहा कि पहले पेट्रोल पंप केवल राजनेताओं और रसूखदारों को ही मिल पाता था किंतु श्री मोदी के पारदर्शी ढंग से सरकार चलाने के मंत्र ने समाज के कमजोर तबके के लोगों को भी ‘करोड़पति बना दिया है।

सरकार की पेट्रोल पंप आवंटन की प्रक्रिया को सरल बनाये जाने को लेकर कुछ आलोचना भी हुई किंतु गोरखधंधा बंद करने में काफी अंकुश लगा है। श्री मोदी की सरकार के दौरान बेरोजगार के अवसर कम होने के विपक्ष के आरोपों को खारिज करते हुए उन्होंने कहा अनुसूचित जाति-जनजाति, पिछड़ा वर्ग, समाज के कमजोर तबके और दिव्यांगों को आज आवंटन पेट्रोल पंपों से बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर मिलेंगे।

उन्होंने कहा कि पेट्रोलियम क्षेत्र के तीनों सार्वजनिक उपक्रमों आईओसी.एचपीसीएल और बीपीसीएल ने मात्र तीन माह में जिस पारदर्शी और त्वरित ढंग से आवंटन का काम किया है वह इसके लिए बधाई के पात्र हैं। श्री प्रधान ने कहा कि तेल विपणन कंपनियों ने नवंबर में देशभर में 78 हजार 493 स्थानों पर पेट्रोल पंप खोलने के लिए आवेदन मांगे थे और चार लाख से अधिक आवेदन प्राप्त हुए।

इनमें से यदि 25 से 30 प्रतिशत आवेदन आवंटन के पात्र पाये गए तो दो लाख लोगों से अधिक को रोजगार मिलेगा। उन्होंने कहा कि 25 जनवरी से लाटरी की प्रक्रिया शुरु हुई थी और एक माह से कम समय भी आवंटन शुरु कर दिया। पहली खेप के रुप में दो हजार से अधिक लोगों को आशय पत्र जारी किए गए हैं।

इस मौके पर 15 लोगों को पेट्रोल पंप के लिए आशय पत्र देने के साथ ही वीडियो कांफ्रेंसिग के माध्यम से 12 राज्यों में भी इनका आवंटन किया गया। पेट्रोलियम मंत्री ने कहा कि 60 वर्ष के दौरान देश में 13 करोड़ लोगों को रसोई गैस उपलब्ध हो सकी थी किंतु मोदी सरकार के पौने पांच वर्ष के कार्यकाल में 12 करोड़ और परिवारों तक इसे पहुंचाया गया। इसमें से साढ़े छह करोड़ प्रधानमंत्री उज्जवल योजना के तहत गैस कनेक्शन दिए गए।

इतनी बड़ी संख्या में आवंटन से तीनों कंपिनयों ने कई रिफिल प्लांट लगाये जिसमें लाखों की संख्या में लोगों रोजगार मिला। नये वितरकों की संख्या बढ़ने से भी लाखों की संख्या में रोजगार के अवसर पैदा हुए। उन्होंने कहा कि युवाओं को पेट्रोल पंप आवंटन किए जाने से न केवल इन्हें रोजगार मिला बल्कि यह अन्य लोगों को भी रोजगार मुहैया करायेंगे। सरकार ने प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने के साथ ही आवंटन के शर्तों को भी काफी सरल बनाया। लाटरी प्रक्रिया के लिए साफ्टवेयर एप्लीकेशन इस्पात मंत्रालय के अधीन मिनी रत्न कंपनी एमएसटीसी ने तैयार किया।

89 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।