मोदी-प्रिंस गले मिले, पाक को नहीं लताड़ा!

नई दिल्ली। भारत के खिलाफ आतंकवादी गतिविधियों को बढ़ावा दे रहे पाकिस्तान को 20 अरब डॉलर की सहायता देने के दो दिन बाद सऊदी अरब ने कहा है कि आतंकवाद से लड़ने में वह भारत के साथ हर तरह का सहयोग करने को तैयार है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बुधवार को सऊदी शाहजादे मोहम्मद बिन सलमान को दोपक्षीय वार्ता हुई, जिसके बाद भारत और सऊदी अरब दोनों इस बात पर सहमत हुए कि आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले देशों पर हर संभव दबाव बनाने की जरूरत है। दोनों देशों की बातचीत में पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले का मुद्दा भी उठा और भारत ने इसमें पाकिस्तान की भूमिका के बारे में भी बताया। मगर प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने पाकिस्तान को कसने वाली कोई बात नहीं कहीं।

इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- पिछले हफ्ते पुलवामा में हुआ बर्बर आतंकवादी हमला, इस मानवता विरोधी खतरे से दुनिया पर छाए कहर की एक और क्रूर निशानी है। उन्होंने कहा- इस खतरे से प्रभावशाली ढंग से निपटने के लिए हम इस बात पर सहमत हैं कि आतंकवाद को किसी भी प्रकार का समर्थन दे रहे देशों पर सभी संभव दबाव बढ़ाने की आवश्यकता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि आतंकवाद का आधारभूत ढांचा नष्ट करना, इसे मिलने वाला समर्थन समाप्त करना और आतंकवादियों और उनके समर्थकों को सजा दिलाना बहुत जरूरी है।

सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान ने कहा - हम खुफिया सूचना साझा करने सहित सभी क्षेत्रों में भारत के साथ सहयोग करेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि आतंकवाद और कट्टरपंथ दोनों देशों की साझा चिंता है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि दोनों देशों ने अपने सामरिक वातावरण के संबंध में आपसी रक्षा सहयोग को मज़बूत करने और उसका विस्तार करने पर भी सफल चर्चा की है। उन्होंने कहा - हमारे ऊर्जा संबंधों को सामरिक गठजोड़ में तब्दील करने का समय आ गया है।

इससे पहले मंगलवार को सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान बिन अब्दुल अजीज के आगमन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रोटोकॉल से अलग हटते हुए खुद उनकी अगवानी की। सऊदी अरब के युवराज भारत की पहली दोपक्षीय यात्रा पर आए हैं। मोहम्मद बिन सलमान का बुधवार की सुबह राष्ट्रपति भवन में पारंपरिक स्वागत किया गया, जहां उन्होंने सलामी गारद का निरीक्षण किया। इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री मोदी मौजूद थे।

सऊदी से पांच समझौते हुए

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान के बीच हुई वार्ता के बाद भारत और सऊदी अरब के बीच पांच समझौतों पर दस्तखत किए गए। इनमें नेशनल इन्वेस्टमेंट एंड इंफ्रास्ट्रक्चर फंड में निवेश के लिए दोनों देशों ने एक सहमति पत्र पर दस्तखत किए। इसके अलावा पर्यटन के क्षेत्र में सहयोग पर भी एक समझौता हुआ। दोनों देशों ने आवास के क्षेत्र में सहयोग के लिए भी एक एमओयू किया।

भारत के इन्वेस्ट इंडिया और सऊदी अरब के जनरल इन्वेस्टमेंट अथॉरिटी के बीच भी दोपक्षीय निवेश संबंधों को बढ़ावा देने के लिए सहयोग ढांचे पर दस्तखत किए गए। प्रसार भारती और सऊदी ब्रॉडकास्ट कोऑपरेशन के बीच भी सहमति पत्र पर दस्तखत हुए। इस मौके पर सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान ने कहा कि वे भारत की यात्रा पर आकर बहुत खुश हैं। उन्होंने कहा कि भारत और सऊदी प्रायद्वीप का रिश्ता काफी पुराना है जो दो हजार साल से भी पहले से शुरू होता है। उन्होंने कहा कि भारत और सऊदी प्रायद्वीप का रिश्ता हमारे डीएनए में बसा है।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भी सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान से मुलाकात की और दोनों देशों के सामरिक संबंधों सहित आपसी रिश्तों के सभई पहलुओं पर चर्चा की। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्विट कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान से मुलाकात की। उन्होंने कहा कि दोनों नेताओं ने कारोबार व निवेश से लेकर रक्षा, सुरक्षा और क्षेत्रीय सहयोग सहित अपने सामरिक संबंधों के सभी पहलुओं पर चर्चा की।

145 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।