हिंदी के शिखर पुरुष नामवर सिंह का निधन

नई दिल्ली। पिछली करीब आधी सदी से हिंदी साहित्य, भाषा और सार्वजनिक संवाद को दिशा दे रहे हिंदी के शिखर पुरुष नामवर सिंह का निधन हो गया। और इस तरह हिंदी के एक लंबे और गौरवशाली युग का अंत हो गया। वे 92 साल के थे। वे पिछले कुछ समय से बीमार थे। मंगलवार की देर रात उन्होंने दिल्ली के एम्स में अंतिम सांस ली। बुधवार को लोधी रोड स्थित विद्युत शवदाह गृह में उनका अंतिम संस्कार किया गया। 

लोदी रोड शवदाह गृह में शाम पौने पांच बजे साहित्य, मीडिया और शिक्षा जगत की सैकड़ों प्रमुख हस्तियों ने आंसू भरी आंखों से उन्हें अंतिम विदाई दी। मंगलवार रात करीब पौने बारह बजे हिंदी के इस प्रखर समालोचक और सार्वजनिक बुद्धिजीवी ने राजधानी दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में अंतिम सांस ली। वहां वे पिछले करीब एक महीने से भरती थे। उनके बेटे विजय सिंह ने अपने पिता की पार्थिव देह को वैदिक मंत्रोच्चार के बीच मुखाग्नि दी।

साठ के दशक के आखिरी दिनों में आई नामवर सिंह की किताब ‘कविता के नए प्रतिमान’ ने छायावाद के बाद के युग की कविता को समझने और उसकी व्याख्या करने की नई दिशा दी। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उनकी इस चर्चित किताब का हवाला देते हुए कहा - हिंदी साहित्य में नए प्रतिमान स्थापित करने वाले शीर्षस्थ समालोचक डॉ नामवर सिंह के निधन से गहरा दुः हुआ।

उनकी एक दूसरी चर्चित किताब ‘दूसरी परंपरा की खोज’ का हवाला देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्विट में कहा- हिन्दी साहित्य के शिखर पुरुष नामवर सिंह जी के निधन से गहरा दुख हुआ है। उन्होंने आलोचना के माध्यम से हिंदी साहित्य को एक नई दिशा दी। उन्होंने कहा- दूसरी परंपरा की खोज करने वाले नामवर जी का जाना साहित्य जगत के लिए अपूरणीय क्षति है। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने उनके निधन पर शोक जताते हुए कहा कि प्रख्यात साहित्यकार व समालोचक डॉ. नामवर सिंह के निधन से हिंदी भाषा ने अपना एक बहुत बड़ा साधक और सेवक खो दिया है।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्विट कर कहा- नामवर सिंह के निधन से भारतीय भाषाओं ने अपनी एक ताकतवर आवाज खो दी है। समाज को सहिष्णु, जनतांत्रिक बनाने में उन्होंने जिंदगी लगा दी। हिंदुस्तान में संवाद को बहाल करना ही उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

113 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।