आप का चुनाव आयोग के सामने प्रदर्शन

नई दिल्ली। दिल्ली में पुलिस पर अपने समर्थकों को परेशान करने का आरोप लगाते हुए आम आदमी पार्टी के नेताओं ने चुनाव आयोग के सामने प्रदर्शन किया। आप नेताओं ने दिल्ली पुलिस पर भाजपा के इशारे पर काम करने का आरोप लगाया और शुक्रवार को चुनाव आयोग से तीन अधिकारियों को निलंबित करने का अनुरोध किया। दिल्ली में सत्तारूढ़ आप के एक प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव आयोग से मिलकर इस संबंध में एक ज्ञापन दिया और दिल्ली पुलिस के अधिकारियों सतीश गोलचा, राजीव रंजन और पंकज सिंह को निलंबित करने की मांग की।

आप के वरिष्ठ नेता और दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और संजय सिंह ने बाद में संवाददाताओं को बताया कि भाजपा के इशारे पर दिल्ली के 24 लाख मतदाताओं का नाम मतदाता सूची से निकाल दिया गया था। आप ऐसे लोगों का नाम फिर से मतदाता सूची में शामिल करने के लिए एक अभियान चला रही है और इसके लिए कॉल सेंटर की मदद ली जा रही है।

दोनों नेताओं ने बताया कि इन कॉल सेंटरों के मालिकों के यहां दबाव बनाया जा रहा है और पुलिस उन्हें परेशान कर रही है। कॉल सेंटर के मालिकों को पुलिस अधिकारी बुला कर उनके साथ बुरा व्यहार कर रहे हैं। इसके साथ ही वहां काम कर रहे कर्मचारियों से भी अनावश्यक जानकारी मांगी जा रही है। दोनों नेताओं ने कहा कि इस तरह की कार्रवाई से शांतिपूर्ण और निष्पक्ष चुनाव प्रभावित हो सकता है।

इससे पहले मनीष सिसोदिया शुक्रवार की सुबह राघव चड्ढा, संजय सिंह और आतिशी के साथ चुनाव आयोग पहुंचे। चारों नेताओं ने आयोग पर भाजपा के इशारे पर काम करने का आरोप लगाया। इसके बाद उन्होंने ट्विट किया कि हमारे कॉल सेंटरों पर पुलिस की रेड करा दी गई है, पिछले चार दिनों में यह तीसरी रेड है। उन्होंने लिखा- सुबह मैं इलेक्शन कमीशन से मिल कर आया तो उसके एक घंटे में कॉल सेंटर पर पुलिस की रेड पड़ गई। इससे साफ होता है कि इलेक्शन कमीशन सारा डेटा चुरा कर मोदी जी को देना चाहता है। उन्होंने इस ट्विट में लिखा कि मैं फिर इलेक्शन कमीशन जा रहा हूं। यह ट्विट दोपहर दो बज कर 40 मिनट पर किया गया था।

63 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।