अब ओसामा के बेटे पर भी कसा शिकंजा

अमेरिका ने अल कायदा के पूर्व नेता ओसामा बिन लादेन के बेटे को ढूंढने पर दस लाख डॉलर के इनाम की पेशकश की है। अमेरिका लादेन के बेटे को चरमपंथ का उभरता चेहरा मान रहा है। अमेरिकी दबाव के कारण सऊदी अरब ने उसकी नागरिकता रद्द कर दी है। हम्जा बिन लादेन को कई बार 'जिहाद का युवराज' भी कहा जाता है। उसके ठिकाने के बारे में बरसों से अटकलें लग रही हैं। हाल के सालों में उसके पाकिस्तान, अफगानिस्तान, सीरिया या फिर ईरान में नजरबंदी में रहने की रिपोर्टें आती रही हैं। अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा है, हम्जा बिन लादेन मारे जा चुके अल कायदा के पूर्व नेता ओसामा बिन लादेन का बेटा है और वह अल कायदा की एक शाखा के नेता के तौर पर उभर रहा है। अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने कहा है कि हम्जा बिन लादेन के ठिकाने के बारे में जानकारी देने वाले को वह दस लाख डॉलर का इनाम देगा।

अमेरिका के मुताबिक हम्जा बिन लादेन की उम्र लगभग 30 साल है और उसने अपने पिता की मौत का बदला लेने के लिए अमेरिका पर हमले करने की धमकी दी है। 2011 में पाकिस्तान के एबटाबाद में अमेरिका की एक विशेष कार्रवाई में ओसामा बिन लादेन मारा गया था। अमेरिकी खुफिया एजेंसियां ओसामा बिन लादेन के बेटे को उसके पिता के बनाए गए वैश्विक जिहादी नेटवर्क के वारिस के तौर पर देखती हैं। 2015 में हम्जा बिन लादेन ने एक ऑडियो संदेश जारी किया था, जिसमें उसने सीरिया में जिहादियों से एकजुट होने को कहा था। इस संदेश में उसने कहा था कि सीरिया की लड़ाई 'फिलस्तीन की मुक्ति' का रास्ता खोलेगी।

इसके एक साल बाद अपने पिता के नक्शे कदम पर चलते हुए हम्जा बिन लादेन ने अपने मूल देश सऊदी अरब के शासक को सत्ता से बेदखल करने की अपील की थी। ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के बाद उसकी तीन पत्नियों और बच्चों को खामोशी से सऊदी अरब में रहने की इजाजत दे दी गई। लेकिन हम्जा बिन लादेन कहां है, इसे लेकर कुछ साफ नहीं है। बताया जाता है कि उसने अपनी मां के साथ कई साल ईरान में बिताए। हालांकि अल कायदा इस्लाम की शिया विचारधारा का विरोध करता रहा है जिसका ईरान में बोलबाला है।

पर्यवेक्षकों का कहना है कि ईरान के शिया शासकों ने हम्जा बिन लादेन को नजरबंदी में रखा ताकि वह अपने प्रतिद्वंद्वी सऊदी अरब के साथ साथ अल कायदा पर भी दबाव बना सके और सुन्नी चरमपंथी शिया ईरान पर हमले ना करें। हम्जा बिन लादेन के एक सौतेले भाई ने पिछले साल ब्रिटिश अखबार गार्डियन को बताया था कि हम्जा के ठिकाने के बारे में कोई जानकारी नहीं है, लेकिन वह अफगानिस्तान में हो सकता है। उसने बताया कि हम्जा बिन लादेन ने मोहम्मद अट्टा की बेटी से शादी की। मोहम्मद अट्टा अमेरिका पर 11 सितंबर 2001 को हुए आतंकवादी हमले का मुख्य हाईजैकर था। अमेरिकी इतिहास के इस सबसे बड़े आतंकवादी हमले में लगभग तीन हजार लोग मारे गए थे। इसी के बाद अमेरिका ने अफगानिस्तान पर हमला किया था।

162 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।