कर्नाटक के थिरमकुदालु नरसीपुरा में ‘कुंभ मेला'

मैसूर। दक्षिण भारत में कर्नाटक के मैसूर जिले के थिरमकुदालु नरसीपुरा में कावेरी, कपिला तथा पौराणिक स्पाटिका सरोवर (गुप्त गामिनी) के संगम तट पर ‘कुंभ मेला का आयोजन 17 से 19 फरवरी तक होगा। मौजूदा समय में उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में आयोजित ‘कुंभ मेला में दुनियाभर के श्रद्धालुओं का जामवड़ा लगा हुआ है।

दक्षिण भारत में ‘कुंभ मेले की शुरुआत 30 वर्ष पहले हुई थी और यहां पर यहां पर इसका आयोजन हर तीन वर्ष में होता है। वैसे तो कुंभ मेले का आयोजन प्रयागराज (उत्तर प्रदेश), नासिक (महाराष्ट्र), हरिद्वार, (उत्तराखंड) तथा उज्जैन (मध्य प्रदेश) में होता है, लेकिन प्रयागराज के त्रिवेणी संगम की तरह कावेरी, कपिला तथा स्पाटिका सरोवर के संगम की पवित्रता और लोक प्रियता को देखते हुए यहां के ऋषियों ने यहां भी कुंभ मेले का आयोजन करने का फैसला किया। इसका मुख्य उद्देश्य दक्षिण भारत के उन लोगों को धार्मिक उत्सव में हिस्सा लेने के लिए अवसर प्रदान करना है, जो उत्तर भारत में जाकर ऐसे समागमों में हिस्सा नहीं ले सकते हैं।

जिला प्रभारी मंत्री जी. टी. देवेगौड़ा ने बताया कि इससे पहले कुंभ के 11 वें संस्करण में सुत्तूर मठ के महंत देशिकेंद्र स्वामी जी, आदिचुनचनगिरी मठ के महंत निर्मलानंदनता स्वामी जी तथा रामकृष्ण आश्रम के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया था। उन्होंने यूनीवार्ता को बताया कि राज्य सरकार दक्षिण भारत में आयोजित होने वाले कुंभ मेले के लिए ढांचागत निर्माण लिए धन और प्रशासनिक सहायता मुहैया कराएगी। उन्होंने बताया कि कुंभ मेले में लगभग 20 लाख लोगों के आने की उम्मीद है।

वर्ष 1989 से शुरू हुए इस कुंभ मेले में वर्ष 2013 में आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या में लगभग पांच लाख की बढ़ोतरी हुई थी और इस बार इसमें और बढ़ोतरी होने की उम्मीद है। उन्होंने बताया कि थिरमकुदालु नरसीपुरा में आयोजित होने वाले कुंभ मेले की पहल सुत्तूर मठ के शिवरात्रि देशिकेंद्र स्वामी, श्री आदिचुनचनगिरि के स्वर्गीय श्री बालगंदरनाथ स्वामी की ओर से की गई थी। उनके अनुसार इसका उद्देश मैसूर क्षेत्र उन लोगों को शुभ मुहूर्त में पवित्र नदी में स्थान करने का अवसर प्रदान करना है, जो महाकुंभ में हिस्सा नहीं ले सकते हैं।

176 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।