Loading... Please wait...

शनि देव को कैसे प्रसन्न करें

शनि न्याय के देवता है जो यदि शनिदेव बुरे कर्मो का दण्ड देते हैं तो शुभ कामों से कृपा भी बरसाते हैं। शास्त्रों में शनि के दस अति पुण्य प्रदान करने वाले नामों का वर्णन है, जिनका स्मरण, जप करने से ही सभी बड़े से बड़ा सकंट कैसे भी दु:खों का नाश होता है।

विशेषकर शनिवार को तो शनि देव के वह दस कल्याणकारी नमो का अवश्य ही उच्चारण करना चाहिए यदि पीपल के पेड़ के नीचे इन नामो का जाप किया जाय तो शनि देव अति प्रसन्न होते है।

शनि देव के 10 नाम है :- कोणस्थ, पिंगल, बभ्रु, कृष्ण, रौद्रान्तक, यम, सौरि, शनैश्चर, मन्द, पिप्पलाश्रय

  • शनि ग्रह से सम्बन्धित फलादेश देखते समय यह अवश्य ही देखना चाहिए कि क्या साढ़े साती सचमुच अशुभ फलदायी है।
  • शनि प्रतिकूल हो तो यहाँ बताये जा रहे उपायों को करें, अपना चरित्र उत्तम बनाए रखे धैर्य का साथ ना छोड़े, बड़े बुजुर्गो और स्त्रियों को पूर्ण सम्मान दें तो शनि की दशा आसानी से कट जाती है।
  • जब किसी जातक को शनि देव की कृपा प्राप्त होती है तो उसका भाग्य जागृत हो जाता है। शनि देव में रंक को राजा बनाने की शक्ति है।
  • शनिवार के दिन शनि भगवान की विधि पूर्वक पूजा करने से शनि महाराज प्रसन्न होते है। अगर कुंडली में शनि की दशा, या किसी भी ग्रह की दशा खराब चल रही है तो भी इस दिन उनकी आराधना करने से अशुभ ग्रहो के प्रभाव को कम किया जा सकता है।
  • शनिवार के दिन मंदिर में शनि देवता के दर्शन अवश्य करें लेकिन ध्यान रहे कि उनकी आँखो में झाँकने की गलती भूल कर भी ना करें|
  • शनि देव को काला / नीला रंग अति प्रिय है। शनिवार के दिन सांय काल शनि मंदिर में शनि देव पर काला वस्त्र और सुरमा अवश्य ही चढाएं।
  • शनिवार के दिन शनि मंदिर में सरसों के तेल का दीपक जलाएं, सांय काल प्रदोष काल में ( 6 बजे से 8 बजे के बीच ) पीपल पर भी दीपक अवश्य ही जलाएं।
  • शनि देव पर कड़वा तेल ( सरसो का तेल ) काले उड़द, काले तिल, लोहा, गुड़ एवं नीले या काले पुष्पों चढ़ाने से शनि देव प्रसन्न होते है।
  • शनिवार के दिन शनि देव को प्रसाद के रूप में श्री फल / नारियल , इमरती या तेल से बनी वस्तुएं के साथ अन्य फल चढ़ाएं, इससे आरोग्य की प्राप्ति होती है, कार्यो से अड़चने दूर होती है, आर्थिक हानि हो रही हो तो बंद होती है।
  • शनि की साढ़े के दुष्प्रभावों को दूर करने के लिए नित्य हनुमान चालीसा एवं बजरंग बाण का पाठ करना चाहिए।
  • शनिवार के दिन नंगे पैर हनुमान मंदिर जाए और वहाँ पर जाकर अपने माथे पर उनके चरणो का सिंदूर लगाए।
  • शनि की दशा में शुभ फलों की प्राप्ति हेतु काले घोड़े की नाल की अंगूठी बनाकर उसे दाएं हाथ की मध्यमा उंगली में पहनना चाहिए।
  • शनिवार के दिन शनि देव के मंदिर में सरसों का तेल और तांबा चढ़ाना चाहिए।
  • शनिवार के दिन लोहे के बर्तन में कड़वा तेल डालकर उसमें एक रूपया डालकर अपना चेहरा देखते हुए शनि का दान लेने वाले को दान दें।
  • शनि दशा में महामृत्युंजय मंत्र का जाप रोज 108 बार करें। अथवा कम से कम 21 बार तो जरुर करें।
84 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2018 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech