Loading... Please wait...

समाचार-धर्म-कर्म

चारधाम यात्रा पर आये रिकार्ड तोड़ श्रद्धालु

देहरादून। उत्तराखंड के उच्च हिमालयी क्षेत्र में पांच साल पहले आयी प्राकृतिक आपदा के चलते बुरी तरह प्रभावित हुई विश्व प्रसिद्ध चारधाम यात्रा की और पढ़ें....

कान्हानगरी में अदभुद कंस मेला कल से

मथुरा। तीन लोक से न्यारी मथुरा नगरी में जहां रामलीला में रावण के पुतले का दहन होता है वहीं कंस मेले में कंस के पुतले का दहन नही किया जाता। मथुरा में इस बार और पढ़ें....

सबरीमाला में उमड़े श्रद्धालु, हड़ताल से जनजीवन बाधित

पंबा/सन्निधानम। मलयाली पंचांग के पवित्र महीने ‘वृश्चिकम’ के पहले दिन शनिवार को हजारों श्रद्धालुओं ने आज यहां भगवान अयप्पा के दर्शन किए। हिंदू और पढ़ें....

रामायण और महाभारत के विषय में है समानता : देवदत्त पटनायक

नई दिल्ली। आम धारणा है कि रामायण आदर्शमूलक है, जबकि महाभारत में वास्तविकता है, लेकिन दोनों महाकाव्यों के विषय और इतिहास में समानता है। यह कहना है लेखक और और पढ़ें....

भीष्म पंचक व्रत

महाभारत युद्ध के बाद जब पांण्डवों की जीत हो गयी तब श्री कृष्ण भगवान पांण्डवों को भीष्म पितामह के पास ले गये और उनसे अनुरोध किया कि आप पांण्डवों को अमृत और पढ़ें....

सर्वमंगलकारी है प्रदोष व्रत

वेदों, पुराणों एवम शास्त्रों के अनुसार वर्ष के प्रत्येक माह के दोनों पक्षों की त्रयोदशी को प्रदोष व्रत मनाया जाता है। तदनुसार, मार्गशीर्ष माह की कृष्ण और पढ़ें....

तुलसी विवाह

हिन्दू पुराणों में तुलसी जी को "विष्णु प्रिया" कहा गया है। विष्णु जी की पूजा में तुलसी दल यानि तुलसी के पत्तों का प्रयोग अनिवार्य माना जाता है। इसके और पढ़ें....

उगते सूर्य को अर्घ्य के साथ सम्पन्न हुई छठ पूजा

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी में कई घाटों पर बुधवार की सुबह छठ व्रतियों द्वारा उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही छठ पूजा सम्पन्न हो गयी। सभी घाट और पढ़ें....

भाई-बहन के अटूट प्रेम का प्रतीक सामा-चकेवा

पटना। भाई-बहन के अटूट प्रेम का प्रतीक सामा-चकेवा आज से शुरू हो गया। सामा चकेवा का पर्व पर्यावरण से संबद्ध भी माना जाता है। शाम ढ़लते ही बहनों द्वारा डाला और पढ़ें....

देवउठनी एकादशी: भगवान विष्णु की पूजा से टलता है अकाल मृत्यु

कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी या प्रबोधिनी एकादशी कहा जाता है। देवउठनी एकादशी को ही भगवान विष्णु क्षीरसागर में 4 मास शयन के बाद जागते और पढ़ें....

← Previous 123456789
(Displaying 1-10 of 813)

© 2018 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech