दीमक हो सकता है स्वच्छ ऊर्जा की चाबी

वाशिंगटन। अभी तक आपने दीमक से नुकसान होते हुए सुना होगा लेकिन अब इनके फायदे भी सामने आए हैं। दीमकों के पास प्रदूषण फैलाने के अहम स्रोत कोयले को विश्व के लिए स्वच्छ ऊर्जा में बदलने की चाबी हो सकती है। एक नए शोध के अनुसार दीमक के उदर में पाए जाने वाले सूक्ष्म जीव कोयले को मीथेन गैस में परिवर्तित करते हैं। मीथेन प्राकृतिक गैस का मुख्य घटक है। यह शोध पत्रिका एनर्जी एंड फ्यूल्स में प्रकाशित हुआ है।

अमेरिका के वर्जीनिया में स्थित एक कंपनी आर्कटेक और डेलवेयर विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने चरणबद्ध तरीके से बायोकेमिकल प्रक्रिया के कम्प्यूटर मॉडल विकसित किए। विश्वविद्यालय के प्रोफेसर प्रसाद धुरजाती ने कहा, ‘‘पहली बार में यह पागलपन जैसा लग सकता है कि दीमक के उदर में सूक्ष्म जीव कोयला खाते हैं लेकिन सोचिए कोयला क्या है। यह मूलत: लकड़ी है जिसे 30 करोड़ वर्षों तक जलाया गया।’’ दीमक कोयला खा सकते हैं और मीथेन गैस पैदा कर सकते हैं।

354 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।