Loading... Please wait...

गांधी जी के आह्वान पर लोग नौकरी छोड़ स्वतंत्रता आंदोलन में कूद पड़े

गोरखपुर। स्वतंत्रता आन्दोलन के सूत्रधार राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने पूर्वी उत्तर प्रदेश में पहली बार आठ फरवरी 1921 को गोरखपुर के बाले मियां मैदान में अपार जनसमूह को सम्बोधित करते हुए कहा था कि यदि विदेशी वस्त्रों का पूर्ण रूप से बहिष्कार कर दिया जाए और लोगों ने चरखे से कातकर तैयार किये गये धागे का कपड़ा पहनना शुरू कर दिया तो अंग्रेजों को यह देश छोड़कर जाने के लिए विवश होना ही पड़ेगा।

गांधी ने कहा था कि हमें गुलामी की जंजीर तोडना उतना ही जरूरी है जितना सांस लेने के लिये हवा जरूरी है। उन्होंने यहां ब्रिटिश हुकूमत को देश से हटाने के लिए लोगों का आह्वान किया था। उनके इस भाषण से लोग इतने प्रभावित हुए कि वे सरकारी नौकरियों का त्याग कर आन्दोलन में शामिल हो गए। उस दिन गोरखपुर के बाले मियां के मैदान में एक लाख से अधिक लोग इक्ट्ठा थे जहां गांधी जी ने पूर्वी उत्तर प्रदेश में पहला भाषण दिया। उनका भाषण सुनकर सभी लोग उनके मुरीद हो गये थे।

महात्मा गांधी के इस उदबोधन का परिणाम दो रूप में सामने आया, एक तो लोग स्वतंत्रता आन्दोलन में कूद पडे और नौकरी व स्कूल छोडकर सभी गांधी जी के साथ हो लिए। इस संबंध में गांव-गांव पंचायत स्थापित होने लगी। पूर्वी उत्तर पदेश की जनता ने तन-मन धन से गांधी जी को स्वीकार कर लिया और पूर्वांचल के गोरखपुर, खलीलाबाद, संतकबीर नगर, बस्ती, मगहर और मऊ आदि क्षेत्रों में चरखा चलाने वालों की बाढ आ गयी। गांधी जी ने 30 सितम्बर 1929 से पूर्वांचल का दौरा दूसरे चरण में शुरू किया। वह चार अक्टूबर 1929 को आजमगढ से चलकर नौ बजे गोरखपुर पहुंचे थे। यहां उन्होंने चार दिन तक प्रवास किया।

सात अक्टूबर 1929 को उन्होंने गोरखपुर में मौन व्रत भी रखा और 9 अक्टूबर 1938 को बस्ती के लिए रवाना हो गये। उनके साथ जाने वालों में प्रख्यात उर्दू शायर फिराक गोरखपुर भी थे। वर्ष 1930 में नमक सत्याग्रह और 1931 में जमींदारी अत्याचार के विरूद्ध यहां की जनता ने प्रोफेसर शिब्बन लाल सक्सेना के नेतृत्व में आंदोलन में भाग लिया। वर्ष 1930 में प्रोफेसर सक्सेना ने गांधी जी के आह्वान पर गोरखपुर स्थित सेन्ट एन्ड्रयूज कालेज के प्रवक्ता पद का परित्याग कर पूर्वांचल के किसान -मजदूरों का नेतृत्व संभाल लिया।

महात्मा गांधी की नजरों से पूर्वांचल में फैली अस्पृश्यता की बीमारी छिप नहीं सकीं और उन्होंने इसे दूर करने के लिए 22 जुलाई 1934 से दो अगस्त 1938 तक विभिन्न क्षेत्रों का दौरा किया और गांव-गांव दलित बस्तियों में गये। उस समय उन्हे गोरखपुर में इकट्ठा किये गये 951 रूपये की थैली भी भेंट की गयी। यहीं 19 जुलाई 1921 को बाबा राघव दास गांधी जी के सम्पर्क में आये।

उन्होंने कहा कि लोगों को पहनने के लिए वस्त्र मुहैया कराने वाला बुनकर और भोजन मुहैया कराने वाला किसान सबसे अधिक बेहाल है। गन्ना मिलें बन्द हो गयी हैं। चरखे और करघे खामोश हैं। देखिए शासन की निगाहें कब इन तक पहुंचती हैं। किसान, बुनकर खुशहाल होगें तभी तो गांधी का सपना साकार होगा।

आज गांधी जी द्वारा दिये गये अभियानों में एक स्वच्छता अभियान को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में शुरू कर गांधी जी की प्रासंगिकता को और बढा दिया है। गांधी जी की 150 वीं जयंती पर स्वच्छ भारत के सपने को साकार करने का संकल्प अब लोगों में दिख रहा है। सरकारी कार्यालयों और स्वयंसेवी संगठनों ने अपने अपने क्षेत्रों में भी स्वच्छ रखने का बीडा उठाया है।

केन्द्र और राज्य सरकार के अधिकारियों व कर्मचारियों ने भी अब इसकी पहल करते हुए हांथों में झाडू लेकर लोगों को संदेश दिया कि अपने आस पास की सफायी सभी का व्यक्तिगत कर्तव्य है लेकिन प्रधानमंत्री मोदी द्वारा दिया गया नारा तब तक सफल नहीं होगा जब तक देश का प्रत्येक नागरिक अपने हिस्से की सफायी कर्तव्य समझकर नहीं करेगा।

गांधी जयंती के अवसर पर गोरखपुर जिला जेल से पांच बंदी रिहा हो रहे हैं और बंदियों को अब इन्हे पांच अक्टूबर को सुबह छोडा जायगा। तीन दिन तक जेल में कार्यक्रम चलेगा। जेल प्रशासन ने रिहा होने वाले चार बंदियों के नामो पर मुहर लगा दी है और एक नाम पर विचार चल रहा है।

गौरतलब है कि प्रदेश सरकार ने दो अक्टूबर ‘गांधी जयती’ पर आधे से अधिक सजा पूरी कर चुके बंदियों को छोडने का निर्णय लिया है और इनकी शेष सजा सरकार माफ कर देगी।

स्वयंसेवी संस्था की मदद से जेल प्रशासन सजा के तौर पर मिला अर्थदन्ड कोर्ट में जमा करायेगा। गोरखपुर जेल के अधिकारियों ने परीक्षण के बाद गोरखपुर जेल से पांच बंदियों का नाम शासन को भेजा था जिसमें एक बंदी प्रधानमंत्री के जन्म दिन पर छूट गया। गांधी जयंती पर रिहा होने वाले चार बंदी अब पांच अक्टूबर को छुटेगे। गांधी जयंती पर जेल में तीन दिन कार्यक्रम का आयोजन होगा।

इसी बीच गोरखपुर जिला जेल के वरिष्ठ जेल अधीक्षक डा. राम धनी ने बताया कि गांधी जयंती पर छुटने वाले बंदियों को जेल के अधिकारी महात्मा गांधी के जीवन पर लिखी गयी किताब भेंट करेंगे। उन्होंने बताया कि इस सम्बंध में कारागार मुख्यालय से निर्देश जारी हुआ है।

197 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2018 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech