गपशप कॉलम

कांग्रेस तब पगला जाएगी!

और राहुल गांधी गलतियां करेगें। नतीजतन नरेंद्र मोदी के लिए मई 2019 में लोकसभा की 200 सीटे जीत सकना संभव होगा! हां, मैं भारी बात लिख दे रहा हूं लेकिन दीवाल पर और पढ़ें....

हर मामले में डंडे का जोर

सरकार के संकटमोचनों का हाल यह है कि सारे फैसले डंडे के जोर पर और कानूनों को तोड़ मरोड़ कर कराने पड़ रहे हैं। पहले तो यह प्रचार होता है कि सारी चीजें बहुत और पढ़ें....

सुप्रीम कोर्ट में क्या होगा?

सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई प्रकरण की सुनवाई 29 नवंबर तक टाली है। 21 नवंबर को पिछली सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने जैसी नाराजगी जताई, उसे देखते हुए लग रहा है और पढ़ें....

संकटमोचन खुद ही संकट में

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवाल की सारी राजनीति और कूटनीति ने देश और सरकार को संकट से बचाने की बजाय संकट में डाल दिया है। केंद्रीय एजेंसियों की और पढ़ें....

संकट मोचक व जेम्स बांड की हकीकत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के तीन संकटमोचन हैं – अरुण जेटली, अजित डोवाल और राम माधव। इन तीनों के कारण सरकार जितने संकट में फंसी उसकी मिसाल अब तक के और पढ़ें....

सीबीआई का फैसला होगा या नहीं?

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टीस रंजन गोगोई और बाकि जजों का गुस्साना क्या सीबीआई पर फैसले को टाले ऱख सकता है? सुनवाई की अगली तारीख 29 नवंबर को है। संदेह नहीं कि और पढ़ें....

उफ! डोवाल किस कदर फेल!

अजित डोवाल भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार है। मतलब देश की अंदरूनी और बाहरी सुरक्षा, खुफिया एजेंसियों, विदेश नीति, गृह मंत्रालय, रक्षा मंत्रालय सबके और पढ़ें....

अदालत व चुनाव से सब अटका

केंद्र सरकार ठप्प है तो राजनीति में सस्पेंस घना है। प्रधानमंत्री दफ्तर, सत्तारूढ पार्टी और विपक्ष सब सांस रोके इंतजार कर रहे है कि सुप्रीम कोर्ट के और पढ़ें....

पीएमओ सर्वाधिक चिंता में

सीबीआई के डायरेक्टर आलोक वर्मा जनवरी में रिटायर होने है। इसलिए सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें पद पर बहाल किया या उनकी आगे और जांच की बात करके फैसला टाला इन और पढ़ें....

अदालत से ध्रुवीकरण में गतिरोध 

भारत की राजनीति आमतौर पर तीन मुद्दों से प्रभावित होती है या तय होती है। इनमें एक बड़ा मुद्दा ध्रुवीकरण का है। जब भारतीय जनता पार्टी केंद्र में हो तो इस और पढ़ें....

5678910111213
(Displaying 81-90 of 621)