गपशप कॉलम

परिवार, भ्रष्टाचार और प्रचार का सहारा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 95 मिनट के इंटरव्यू और उसके बाद पंजाब से लेकर असम और मणिपुर में दिए उनके भाषण और लोकसभा में राफेल पर अरुण जेटली व निर्मला और पढ़ें....

राफेल और सफाई में ही बोलना 

साल के पहले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 95 मिनट का इंटरव्यू दिया। इंटरव्यू वीडियो न्यूज एजेंसी को इसलिए दिया ताकि एक साथ सारे चैनलों को उसके और पढ़ें....

क्या मोदी का राहुल पर बोलना हिट?

लगता है मानों जुमलों को गढ़ने की मशीन बनी है जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भाषण अब सिर्फ राहुल गांधी को केंद्रीत करके जुमलो में कसा होता है। शुक्रवार और पढ़ें....

तब मोदी को सुनते थे अब चैनल चेंज!

वक्त का जवाब नहीं। याद करें जनवरी 2014 के वक्त को। तब लोग नरेंद्र मोदी को सुनने को लालायित होते थे। लोगों में उत्सुकता होती थी कि आज मोदी का भाषण कहां-कब? लोग और पढ़ें....

फिर सुरक्षा व शहरी नक्सली का हल्ला

भाजपा की राजनीति और चुनावी विमर्श में राष्ट्रीय सुरक्षा हमेशा बड़ा मुद्दा रहा है। भाजपा का दावा है कि वह राष्ट्रीय सुरक्षा का ध्यान रखने वाली पार्टी है, और पढ़ें....

मंदिर का ही बचा आसरा?

ट्रेन, बस, हवाई जहाज की यात्रा से लेकर पान और चाय की दुकानों पर भी राजनीतिक चर्चा में आम लोग कहने लगे हैं कि भाजपा को अब सिर्फ राम मंदिर का आसरा है। चाहे और पढ़ें....

गाय, तलाक, नमाज से शुरू नैरेटिव

भारतीय जनता पार्टी लोकसभा चुनाव से पहले अपना नैरेटिव बना रही है। उसने इसके लिए कुछ मुद्दे चुने हैं, जो पहले से उनको एजेंडे में रहे हैं। पिछले चार साल आठ और पढ़ें....

तो नीतीश एनडीए के पीएम!

हां, नीतीश खेमा ऐसे ही ख्याल में उड़ रहा है। नीतीश कुमार को इस तरह समझाना अरुण जेटली के ही बूते संभव है। अमित शाह ने उन्हें समझाया हो, यह संभव है। मोटे तौर और पढ़ें....

उद्धव ने ठोकी आखिरी कील!

उद्धव ठाकरे 2019 में महानायक होंगे। उन्होंने 2018 के खत्म होते-होते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ले कर जो बात कही है वह 2019 में मोदी सरकार का अंत है। इसलिए और पढ़ें....

प्रदेश अध्यक्षों को कब बदलेंगे

राहुल गांधी के बतौर अध्यक्ष एक साल पूरे होने पर उनके कामकाज का विश्लेषण करते हुए एक ट्रेंड बहुत स्पष्ट दिख रहा है। वे अपनी पसंद और नापसंद पर बहुत ध्यान और पढ़ें....

2345678910
(Displaying 51-60 of 621)