Loading... Please wait...

गाय, तलाक, नमाज से शुरू नैरेटिव

भारतीय जनता पार्टी लोकसभा चुनाव से पहले अपना नैरेटिव बना रही है। उसने इसके लिए कुछ मुद्दे चुने हैं, जो पहले से उनको एजेंडे में रहे हैं। पिछले चार साल आठ महीने के कार्यकाल में भी इन मुद्दों पर राजनीति हुई है पर पिछले एक-दो महीने से ये मुद्दे निर्णायक रूप से चुनावी मुद्दा बनते दिख रहे हैं। इसमें गाय का मुद्दा है, तीन तलाक का है, खुले में नमाज पढ़ने का है और शहरी नक्सली का भी है। इसमें कुछ और भी छोटे छोटे मुद्दे होंगे पर मोटे तौर पर मंदिर के बाद ये चार मसले हैं, जिन पर भाजपा और चुनावी नैरेटिव बनाने के प्रयास में है।

मामूली बात नहीं है कि दिल्ली से सटे नोएडा के सेक्टर 58 के एक पार्क में हर शुक्रवार को होने वाली नमाज बंद करा दी गई। इस पार्क के आसपास के जितने भी कार्यालय या छोटे छोटे कारोबारी प्रतिष्ठान हैं, सबको सरकार की ओर से नोटिस दिया गया। इसमें कहा गया है कि अगर पार्क में नमाज हुई तो इन कंपनियों पर कार्रवाई होगी। आमतौर पर माना जाता है कि इन कंपनियों और कारोबारियों के यहां काम करने वाले लोग सेक्टर 58 के पार्क में नमाज पढ़ते हैं। यह एक प्रतीकात्मक कार्रवाई थी। पार्क में नमाज रोकने के लिए सरकार इतने पर ही नहीं रूकी। स्थानीय अधिकारियों ने नमाज न पढ़ी जाए यह सुनिश्चित करने के लिए शुक्रवार की सुबह पार्क को पानी से भर दिया। आमतौर पर पार्क में शाम में पानी छोड़ जाता था पर इस शुक्रवार सुबह में ही पानी छोड़ दिया गया। यह भी अनायास नहीं है कि पार्क में नमाज रोकने के आदेश के साथ ही सोशल मीडिया में सार्वजनिक जगहों पर नमाज के वीडियो वायरल होने लगे। गुवाहाटी से लेकर हैदराबाद तक मुख्य सड़क रोक कर उस पर नमाज पढ़े जाने और लोगों के परेशान होने का वीडिया इन दिनों खूब वायरल हो रहा है। सो, सार्वजनिक जगह पर नमाज पढ़ने से रोकने का छोटा लेकिन प्रभावी नैरेटिव नोएडा से बना है। 

गाय का नैरेटिव भी भाजपा ने उत्तर प्रदेश से ही बनाया है। अखलाक का मामला ग्रेटर नोएडा का ही था, जिसके फ्रीज में कथित तौर पर गोमांस रखे होने के संदेह में भीड़ ने अखलाक की हत्या कर दी थी। पिछले दिनों उस हत्याकांड की जांच करने वाले इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह को बुलंदशहर में मार दिया गया है। कथित गोहत्या का विरोध कर रही एक भीड़ ने सुनियोजित तरीके से इंस्पेक्टर सुबोध सिंह को घेर कर मारा। उनको मारे जाने की घटना का जो डिटेल सामने आया है वह रोंगटे खड़े करने वाला है। भीड़ ने पहले उनकी उंगली काटी, कुल्हाड़ी से वार करके घायल किया फिर उन्हीं की रिवाल्वर से उनको गोली मारी और शव उनकी जीप में लटका दिया। उस शव को जलाने का भी प्रयास किया गया। यह संभवतः इसलिए हुआ क्योंकि उन्होंने अखलाक हत्याकांड की जांच के दौरान कई हिंदू आरोपियों को पकड़ कर जेल में डाला था। 

एक पुलिस इंस्पेक्टर की बर्बर हत्या के बाद राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पहले तो इसे दुर्घटना बताया और बाद में कहा कि यह विरोधियों की साजिश है। उन्होंने पुलिस अधिकारियों को इंस्पेक्टर की हत्या से ज्यादा कथित गोहत्या की जांच पर ध्यान देने को कहा। राज्य में सभी डीएम और एसपी को कहा गया है कि अगर उनके इलाके में गोहत्या की वारदात होती है तो उन पर कड़ी कार्रवाई होगी। इसी तरह आवारा गायों के रहने के लिए शेल्टर वगैरह बनाने के तत्काल उपाय करने के लिए मुख्य सचिव को भी निर्देश दिया गया है और इस बीच कई गावों में लोगों ने स्कूलों और अस्पतालों में गायों को रखना शुरू कर दिया है। इंस्पेक्टर की हत्या, बच्चों की पढ़ाई, लोगों के इलाज सबसे ज्याद अहम गाय की सुरक्षा है। 

इसी तरह सरकार ने लोकसभा में फिर से तीन तलाक का बिल पास कराया है। अगले हफ्ते इसे राज्यसभा में पेश किया जाएगा। बिल पास होता या नहीं भी होता है तो दोनों स्थितियों में भाजपा उसका चुनावी मुद्दा बनाएगी। अगर बिल पास होकर सरकार का लाया अध्यादेश कानून बन जाता है तो सरकार और भाजपा खुद को मुस्लिम महिलाओं के हितों के चैंपियन की तरह पेश करेगी और अपने मतदाताओं में यह मैसेज देगी कि वह समान नागरिक संहिता की तरफ बढ़ रही है और अगर कानून नहीं बना तो वह विपक्षी पार्टियों पर मुस्लिम तुष्टिकरण के आरोप लगाएगी। 

298 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2019 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech