Loading... Please wait...

छात्रावास में रहने वाले विद्यार्थियों को हर महीने मिलेगा एक हजार

पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शिक्षा की पहुंच आसान बनाने के लिए हरसंभव सुविधा उपलब्ध कराने की प्रतिबद्धता दुहराते हुये आज कहा कि छात्रावास में रहने वाले विद्यार्थियों को प्रत्येक महीने एक हजार रुपये की सहायता राशि दी जाएगी।

नीतीश कुमार ने यहां अनुसूचित जाति (एससी) एवं अनुसूचित जनजाति (एसटी), पिछड़ा वर्ग एवं अत्यंत पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक वर्ग के छात्र-छात्राओं से जुड़ी कई योजनाओं का लोकार्पण करने के बाद कार्यक्रम को संबोधित करते हुये कहा कि छात्रावास में रहने के दौरान छात्र-छात्राओं को प्रत्येक महीने 1000 रुपये की सहायता राशि दी जाएगी। 

यह राशि सीधे विद्यार्थियों के बैंक खाते में ट्रांसफर की जाएगी। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने इन छात्र-छात्राओं के लिए गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) जीवनयापन कर रहे लोगों को मिलने वाली दर पर अनाज उपलब्ध कराने की सहमति दी लेकिन राज्य सरकार ने प्रत्येक विद्यार्थी को मुफ्त में 15 किलो अनाज जिसमें नौ किलो चावल और छह किलो गेहूं प्रतिमाह छात्रावास तक पहुंचा देने की योजना लागू की। अब छात्र बिना किसी परेशानी के मन लगाकर पढ़ सकेंगे, अब न उन्हें खाने की चिंता करनी है और न ही पैसे की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) प्रारंभिक परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले राज्य के एससी, एसटी, अत्यंत पिछड़ा वर्ग के छात्र-छात्राओं को इस वर्ष से 50 हजार रुपये और संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) की परीक्षा पास करने वाले ऐसे विद्यार्थियों को एक लाख रुपये की राशि सरकार उपलब्ध कराएगी ताकि वे मुख्य परीक्षा एवं साक्षात्कार की तैयारी बेहतर ढंग से कर सकें तथा अंतिम रूप से चयनित हो सकें। उन्होंने कहा कि एससी, एसटी, पिछड़ा वर्ग, अत्यंत पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक वर्ग के विद्यार्थी इन योजनाओं का लाभ उठाएं और अधिक से अधिक संख्या में पदाधिकारी बनें। उन्होंने कहा कि वह लोगों के लिए सकारात्मक ढंग से काम करने में विश्वास करते हैं, जिन्हें नकारात्मक बातें करने की आदत है, वे करते रहें।

233 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2019 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech