Loading... Please wait...

कांग्रेस का रत-जगा

संपादकीय-2
ALSO READ

मध्य प्रदेश में मतदान खत्म होने के बाद से कांग्रेस ने हर छोटे-बड़े मामले को लेकर चुनाव आयोग का दरवाज़ा खटखटाया है। प्रदेश में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के पास तो कांग्रेस की शिकायतों/ज्ञापनों का जैसे अंबार ही लग गया। तदान के दिन सिर्फ़ ईवीएम में ख़राबी के कांग्रेस ने 150 से ज़्यादा शिकायतें दर्ज़ कराईं। इसके साथ चुनाव आयोग तक भी पार्टी अपनी चिंताएं पहुंचाती रही है। बीते हफ्ते पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल के नेतृत्व में पार्टी के एक प्रतिनिधिमंडल ने मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा से मुलाकात की। खबरों के मुताबिक कांग्रेस के इस प्रतिनिधिमंडल ने आयोग से मांग की कि जिन अधिकारियों के बारे में शिकायतें मिल रही हैं, उन्हें मतगणना ड्यूटी से हटाया जाए। ईवीएम की सुरक्षा का विशेष इंतज़ाम किया जाए। जिन जिलों में ईवीएम या स्ट्रॉन्ग रूमों के बारे में शिकायतें आई हैं, उनके कलेक्टरों से जवाब तलब किया जाए।

उन पर भी उचित कार्रवाई की जाए। इस बीच ये खबर भी आई कि कांग्रेस की ओर से जबलपुर उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की गई है। इसमें मांग की गई है कि सभी जगहों पर मतगणना के दौरान ईवीएम के वोटों का वीवीपीएटी (मतदाता पर्चियों) से मिलान किया जाए। उसके बाद ही नतीज़े घोषित किए जाएं। इसके अलावा प्रदेश भर में ईवीएम रखने के लिए बनाए स्ट्रॉन्ग रूमों में कांग्रेस प्रत्याशियों/ कार्यकर्ताओं के रात-रात भर जागकर पहरेदारी करने की ख़बरें भी लगातार आ रही हैं। इस रतजगे का परिणाम ही है कि स्ट्रॉन्ग रूमों में होने वाली हर असामान्य हलचल सोशल मीडिया के ज़रिए आम लोगों तक पहुंच रही है। गुजरे हफ्ते प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ से यह पूछा गया था कि क्या ईवीएम सुरक्षा और मतगणना आदि के विषय में आप सरकारी मशीनरी की निष्पक्षता को लेकर वे पूरी तरह आश्वस्त हैं? इस पर कमलनाथ ने जो कहा वह ग़ौर करने लायक है।

उनका कहना था- हमें सरकारी मशीनरी पर पूरा भरोसा है। फिर भी अगर कोई अफ़सर गड़बड़ी करता है तो उसे याद रखना चाहिए कि 11 दिसंबर (जब नतीज़े आने वाले हैं) के बाद 12 तारीख़ भी आएगी। यानी उन्होंने नौकरशाहों को संदेश दिया कि सत्ता में आने के बाद कांग्रेस उन अफसरों को नहीं बख्शेगी, जिनका रुख पक्षपात भरा होगा। वैसे कांग्रेस सत्ता में आएगी या नहीं, यह तो मंगलवार को ही मालूम पड़ेगा। लेकिन कांग्रेस ने जिस जतन से इस बार चौकसी बरती है, वह गौरतलब है। 

83 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2019 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech