संपादकीय-2

प्रतिबंधों से निकलने की जुगत

अमेरिका से परेशान यूरोपीय देश रास्ता ढूंढ रहे हैं। खबरों के मुताबिक जर्मनी, फ्रांस और ब्रिटेन ने ईरान के साथ कारोबार के लिए एक अलग पेमेंट चैनल बनाया है। और पढ़ें....

दुनिया के लिए एक मिसाल

पर्यावरण रक्षा के लिए जागरूकता लाने की यह अद्भुत पहल है। पिछले हफ्ते बेल्जियम में हजारों स्कूली छात्रों ने पर्यावरण संरक्षण के लिए प्रदर्शन किया। और पढ़ें....

कैसे कम हो भ्रष्टाचार

क्या‍ भारत में भ्रष्टाचार कम हुआ है? अंतरराष्ट्रीय एनजीओ- ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल का यही मानना है। ट्रांसपरेंसी इंटरनेशनल ने 2018 की करप्शन परसेप्सन और पढ़ें....

कोरिडोर से विस्थापन

भारत और पाकिस्तान की सीमा के दोनों ओर करतारपुर कॉरिडोर के लिए सड़कें बनाई जा रही हैं। पंजाब के लोगों में इससे खुशी है। लेकिन बहुत से लोगों पर विस्थापन का और पढ़ें....

राजनीति के शिकार स्कूल

राजस्थान में सत्ता में आते ही कांग्रेस सरकार ने बंद हुए स्कूलों को फिर से खोलने का एलान किया। इसके लिए सरकार ने हर ज़िले से बंद हुए स्कूलों के बारे में और पढ़ें....

वेनेजुएला में गहरा संकट

वेनेजुएला में स्थिति भयानक मोड़ ले रही है। आम समझ है कि डोनल्ड ट्रंप प्रशासन राष्ट्रपति निकोला मादुरो के खिलाफ बगावत को हवा दे रहा है। इसकी वजह है। और पढ़ें....

सरकार में घटता भरोसा

लोगों को अपनी सरकारों, कंपनियों और संस्थानों में कितना भरोसा है, इस बात का ठीक-ठीक पता लगाना तो मुश्किल है, लेकिन अमेरिकी कंपनी एडेलमैन पिछले दो दशकों से और पढ़ें....

विराट कोहली का जलवा

यह निर्विवाद है कि आज विश्व क्रिकेट में विराट कोहली का जलवा है। बतौर खिलाड़ी और बतौर कप्तान उनके करिश्मे पर विश्व क्रिकेट मुग्ध है। इसलिए इसमें कोई हैरत और पढ़ें....

गैर-बराबरी की बढ़ती खाई

दावोस में विश्व आर्थिक फोरम की सालाना बैठक फिर हो रही है। उस से ठीक पहले ऑक्सफैम ने अपनी रिपोर्ट जारी कर दुनिया का ध्यान अमीरों और गरीबों में बढ़ते फासले और पढ़ें....

जाति का जेल से रिश्ता

कहा जाता है कि भारत में जैसे एक गरीबी रेखा है, वैसे ही एक जेल रेखा भी है। जेल जाने वाले लोगों की संख्या का विश्लेषण करें तो पता चलता है कि वहां एक खास और पढ़ें....

123456789
(Displaying 31-40 of 576)