Loading... Please wait...

आर.कॉम का ये हाल

यह सुनने में हैरतअंगेज लगता है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज दिवालिया हो जाए। लेकिन ऐसा ही होता दिखता है। अनिल अंबानी के स्वामित्व वाली रिलायंस कम्युनिकेशंस (आर.कॉम) का कहना है कि वह लगभग 45,000 करोड़ रुपये के कर्ज को चुकाने के लिए अपनी संपत्तियों को बेचने में असफल रही। इसलिए उसने पर नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) की मुंबई बेंच में दिवालिया याचिका दायर करने का फैसला किया है। इनसॉल्वेंसी और बैंकरप्सी कोड (आईबीसी) के तहत कंपनी के बोर्ड ने दिवालिया होने की अपील की है। इसके लिए वह एनसीएलटी के जरिए फास्ट ट्रैक रिजॉल्यूशन के लिए गुहार लगाएगी। आर.कॉम के मुताबिक वह एनसीएलटी के प्रावधानों के जरिए जल्द अपने इस स्थिति का समाधान ढूंढेगी। कंपनी का कहना है कि कर्जदाताओं को अपनी परिसंपत्ति मुद्रीकरण योजनाओं (एसेट मोनेटाइजेशन प्लान्स) से कोई धनराशि नहीं मिली है। इसकी पूरी कर्ज समाधान प्रक्रिया में कोई प्रगति नहीं हुई है। कंपनी ने अपने बयान में कहा कि आर.कॉम के निदेशक मंडल ने एनसीएलटी के जरिए ऋण समाधान योजना लागू करने का फैसला  किया है। आरकॉम ने मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाली कंपनी रिलायंस जियो को स्पेक्ट्रम बेचने की कोशिश की। लेकिन बात नहीं बनी। गौरतलब है कि स्वीडन की दूरसंचार कंपनी इरिक्सन पहले आर.कॉम को दिवालिया घोषित करने के लिए एनसीएलटी के समक्ष याचिका दायर कर चुकी है। उसके मुताबिक आर.कॉम के साथ कर्ज समाधान प्रक्रिया किसी ओर जाती नहीं दिखती।  

आर.कॉम के बयान में कहा गया है कि उच्च न्यायालय, दूरसंचार विवाद एवं अपील अधिकरण (टीडीसैट) और उच्चतम न्यायालय में विभिन्न कानूनी मुद्दे विभिन्न स्तरों पर लंबित हैं। आर.कॉम और इसकी दो सब्सिडिरी कंपनियों रिलायंस टेलीकॉम लि. और रिलायंस इन्फ्राटेल लि. बोर्ड के फैसलों को लागू करने में जल्द उचित कदम उठाए जाएंगे। इससे कंपनी की अन्य सब्सिडिरी कंपनियों के कामकाज और संचालन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। आर.कॉम ने सितंबर 2018 में कहा था कि वह भविष्य में रियल एस्टेट क्षेत्र पर ध्यान देने के लिए दूरसंचार कारोबार से पूरी तरह से बाहर हो जाएगी। तब आर.कॉम ने कहा था कि वह अपने कर्जदाताओं के हितों के अनुरूप लगभग 25,000 करोड़ के एसेट मोनेटाइजेशन प्रोग्राम को पूरा करने को लेकर आश्वस्त है। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। आर.कॉम पर मार्च 2017 तक सात अरब डॉलर का कर्ज है। अनिल अंबानी की कंपनियां हाल में चर्चा में रही हैं। 

194 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2019 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech