गंगा की ऐसी सफाई!

यह नया तथ्य सामने आया है कि गंगा सफाई के लिए बनी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली ‘राष्ट्रीय गंगा परिषद’ (नेशनल गंगा काउंसिल या एनजीसी) की आज तक एक भी बैठक नहीं हुई। 2014 में नरेंद्र मोदी ने वाराणसी से चुनाव लड़ने का एलान करते हुए कहा था कि गंगा मां उन्हें बुलाया है। मगर गंगा मां की उनके शासनकाल में कैसी देखभाल हुई, ताजा तथ्य उसका एक उदाहरण है। सूचना का अधिकार आवेदन से सामने आए तथ्य के मुताबिक साल में कम से कम एक बार राष्ट्रीय गंगा परिषद की बैठक जरूर होनी चाहिए।अक्टूबर2016 में परिषद का गठन किया था। इसका उद्देश्य गंगा नदी का संरक्षण, सुरक्षा और प्रबंधन करना है। सात अक्टूबर2016 को जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्रालय की ओर से जारी अधिसूचना में कहा गया कि राष्ट्रीय गंगा परिषद अपने विवेक से हर साल कम से कम एक या एक से अधिक बैठकें आयोजित कर सकती है।8 जनवरी 2019 को आरटीआई आवेदन के ज़रिये जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा संरक्षण मंत्रालय के अधीन संस्था राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन (एनएमसीजी) से मिली जानकारी से खुलासा हुआ कि इसके गठन के दो साल से ज़्यादा समय बीत जाने के बाद भी राष्ट्रीय गंगा परिषद की एक भी बैठक नहीं हुई। गंगा सफाई की दिशा में हो रहे कार्यों को देखने के लिए राष्ट्रीय गंगा परिषद संभवत: सबसे बड़ी समिति है।राष्ट्रीय गंगा परिषद के गठन के साथ ही राष्ट्रीय गंगा नदी बेसिन प्राधिकरण (एनजीआरबीए) का विघटन कर दिया गया था।एनजीआरबीए की कार्यप्रणाली लगभग राष्ट्रीय गंगा परिषद की ही तरह थी। इस समिति के भी अध्यक्ष प्रधानमंत्री हुआ करते थे।2009 में कांग्रेस की अगुआई वाली यूपीए सरकार के सत्ता में आने के बाद एनजीआरबीए का गठन किया था।

इसकी पहली बैठक तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में पांच अक्टूबर 2009 को हुई थी।2009 से लेकर 2012 तक में एनजीआरबीए की कुल तीन ठके हुई थीं। मनमोहन सिंह ने तीनों बैठकों की अध्यक्षता की थी।लेकिन राष्ट्रीय गंगा परिषद की बैठक के बाद इसकी बैठक ही नहीं हुई। क्या इससे यह पता नहीं चलता कि प्रधानमंत्री गंगा नदी को कितना महत्व देते हैं। अगर प्रधानमंत्री एक भी बैठक नहीं कर पा रहे हैं तो इससे सवाल उठता है कि क्या वाकई में ये कोई निर्णायक बॉडी है या कोई जुमला है?क्या देश को इन सवालों के जवाब जवाब मिलेंगे?

198 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।