शोर और वाजिब सवाल

एक अंग्रेजी अखबार ने अपनी लीड हेडिंग में खबर दी कि भारत में बेरोजगारी रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है। उसके नीचे उसने नरेंद्र मोदी की तस्वीर लगाई और लिखा कि क्या इसीलिए प्रधानमंत्री इन दिनों ने इतनी ऊंची आवाज में बोल रहे हैं। ये सवाल अहम है। यह पूछा जाएगा कि क्या सचमुच सरकार रोजगार और रोजी-रोटी के सवालों से लोगों का ध्यान हटाए रखने के लिए राष्ट्रवाद का मुद्दा उछाले हुए है। ताजा तथ्य यह सामने आया है कि पिछले ढाई साल की तुलना में इस साल फरवरी में भारत में बेरोजगारी दर अपने रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है। भारतीय अर्थव्यवस्था निगरानी केंद्र (सीएमआईई) के आंकड़ों के अनुसार, फरवरी 2019 में भारत में बेरोजगारी दर बढ़कर 7.2 प्रतिशत हो गई, जो कि सितंबर 2016 के बाद सबसे अधिक है। यह आंकड़ा पिछले साल फरवरी में 5.9 प्रतिशत था। मुंबई स्थित सीएमआईई ने  श्रम बल की भागीदारी दर में अनुमानित गिरावट का हवाला देते हुए कहा कि नौकरी मांगने वाले लोगों की संख्या में कमी के बावजूद बेरोजगारी की दर बढ़ गई है। पिछले साल देश में जहां 40.6 करोड़ लोगों के पास रोजगार था वहीं इस साल फरवरी में यह संख्या अनुमानित तौर पर 40 करोड़ हो गई।

सीएमआईई का आंकड़ा देशभर में हजारों-लाखों लोगों के सर्वेक्षण पर आधारित है। कई अर्थशास्त्री इसके आंकड़ों को सरकार द्वारा पेश किए जाने वाले बेरोजगारी के आंकड़ों से अधिक भरोसेमंद मानते हैं। इस साल मई की शुरुआत में होने वाले आगामी आम चुनावों को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए ये आंकड़े निश्चित तौर पर बुरी ख़बर हैं। किसानों की कम आय और रोजगार वृद्धि की सुस्त रफ्तार को विपक्षी पार्टियां अक्सर ही चुनावी मुद्दे के रूप में सामने रखती रही हैं। इससे पहले सरकार ने जब भी बेरोजगारी दर को लेकर आधिकारिक आंकड़ा जारी किया, तब उसे पुराना बताया गया। लेकिन हाल ही में बेरोजगारी को लेकर एक आंकड़े को जारी होने से ही रोक दिया। अधिकारियों ने कहा कि उन आंकड़ों की जांच करने की जरूरत है। जिन आंकड़ों को जारी करने से सरकार ने पिछले साल दिसंबर में रोक दिया था, उन्हें कुछ हफ्ते पहले एक अंग्रेजी बिजनेस अखबार ने छाप दिया था। उसमें यह बताया गया था कि भारत की बेरोजगारी दर 2017-18 में 45 साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई है। इस साल जनवरी में जारी हुई सीएमआईई की रिपोर्ट के अनुसार 2016 में हुई नोटबंदी के बाद साल 2018 में लगभग 1.1 करोड़ लोगों की नौकरी चली गई। 

208 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।