Loading... Please wait...

संपादकीय-1

वुहान भावना का क्या हुआ?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन जाकर कूटनीतिक रिश्तों को दोबारा शक्ल देने की कोशिश की थी। वुहान शहर में हुई उस अनौपचारिक शिखर वार्ता को तब बेहद अहम और पढ़ें....

शिक्षक नियुक्ति में भ्रष्टाचार

उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव के मुख्यमंत्री रहने के दौरान हुई 12,460 प्राइमरी शिक्षकों की भर्ती को इलाहाबाद हाई कोर्ट ने रद्द कर दिया है। कोर्ट ने 68,500 और पढ़ें....

चंद्रबाबू बने विपक्षी उम्मीद

चंद्रबाबू नायडू की वैचारिक साख संदिग्ध है, लेकिन इससे शायद ही कोई इनकार करेगा कि वे सियासत के चतुर खिलाड़ी हैं। हवा रुख भांपने और उसके मुताबिक समीकरण और पढ़ें....

अब आरबीआई से जंग

अब एनडीए सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक में खुली जंग छिड़ गई है। चर्चा तो यहां तक है कि आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल इस्तीफा दे सकते हैं। सरकार ने रिजर्व और पढ़ें....

क्या संभव है अध्यादेश?

अयोध्या में मंदिर का मुद्दा फिर गरमा गया है। संघ परिवार की तरफ से मांग तेज हो गई है कि सरकार इस मामले में कानून बनाए या अध्यादेश जारी करे। विजयदशमी के और पढ़ें....

सूचनाओं पर परदा क्यों?

केंद्र सरकार का पारदर्शिता से परहेज जग-जाहिर है। मगर ऐसा लगता है कि नरेंद्र मोदी सरकार लगातार ऐसी धारणा को पुष्ट करती जा रही है। ताजा मिसाल इस बात की और पढ़ें....

आरबीआई से एक सवाल

भारत के नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक राजीव महर्षि ने बैंकों के मौजूदा एनपीए (यानी फंसे हुए क़र्ज़) संकट में रिज़र्व बैंक की भूमिका को लेकर विचारणीय सवाल और पढ़ें....

श्रीलंका में ‘तख्ता पलट’

ये ऐसा तख्ता पलट है, जिसे खुद सत्ताधारी राष्ट्रपति ने किया। उन्होंने गुपचुप अपने गठबंधन के सहयोगी प्रधानमंत्री को हटा दिया। और प्रधानमंत्री पद पर उस और पढ़ें....

गंभीर संकट के कई आयाम

नरेंद्र मोदी सरकार ने अपनी और सीबीआई दोनों की साख पर गहरा प्रहार किया है। अब निगाहें सुप्रीम कोर्ट पर हैं। अगर सुप्रीम कोर्ट ने निदेशक आलोक वर्मा को और पढ़ें....

इस बार संतुलित आदेश

पटाखों की बिक्री पर पूरी रोक ना लगाकर सुप्रीम कोर्ट ने अधिक संतुलित रुख अपनाया है। दीवाली पर पटाखों की बिक्री रोकना ना तो वांछित है, ना वैसे आदेश को लागू और पढ़ें....

2345678910
(Displaying 51-60 of 545)

© 2019 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech