महिलाएं भी हो सकती हैं पहलवान: पैगी

मुंबई। पहलवानी के क्षेत्र में कदम रख कर पैगी ने महिलाओं के बारे में इस परंपरागत सोच को तोड़ डाला कि महिलाएं केवल सुंदरी ही हो सकती हैं। उन्होंने साबित किया कि महिलाएं भी पहलवानी कर सकती हैं। डब्ल्यूडब्ल्यूई (वर्ल्ड रेसलिंग एंटरटेनमेंट) में चर्चित पैगी का असली नाम सराया-जेड बेविस है। वह डब्ल्यूडब्ल्यूई में कद्दावर महिला पहलवानों में से एक हैं। उनका कहना है कि शुरुआत में उन्हें अहसास नहीं था कि यह खेल किस तरह ‘पुरुष वर्चस्व’ वाला है।

पैगी ने बताया, ‘‘हालांकि, डब्ल्यूडब्ल्यूई ने कभी भी महिलाओं को पीछे नहीं रखा। यह वास्तव में प्रशंसकों की ओर से अधिक था जो उन्हें बहुत गंभीरता से नहीं लेते थे। कई साल पहले वे पुरुषों को अधिक देखना चाहते थे। यह पुरुष वर्चस्व वाला एक खेल था।’’ छब्बीस वर्षीय पैगी ने कहा कि जब वह एफसीडब्ल्यू (फ्लोरिडा चैंपियनशिप पहलवानी) में आईं तब चीजें नाटकीय रूप से बदल गईं। उन्होंने बताया, ‘‘वहां केवल पांच महिलाएं और 70 पुरुष थे। वहां बहुत संघर्ष था लेकिन डब्ल्यूडब्ल्यूई ने हम पर बहुत अधिक विश्वास किया।’’ पैगी को पहलवानी के रिंग (स्पर्धा का मंच) में महिलाओं को लाने का एक प्रमुख व्यक्ति माना जाता है। जिसमें उनकी 2013 की एनएक्सटी महिला प्रतियोगिता भी शामिल है जिसने कई अन्य महिला पहलवानों को अपना प्रतिभा दिखाने का मौका दिया। उन्होंने कहा, ‘‘जब मैं उनके साथ रिंग में थी तब मैं खुद को साबित करना चाहती थी। डब्ल्यूडब्ल्यूई, प्रशंसकों और पुरुष पहलवानों के समक्ष यह साबित करना चाहती थी कि लड़कियां वास्तव में अच्छा मैच खेल सकती हैं और कभी-कभी बेहतर भी।

78 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।