गर्भपात की इच्छुक महिला को बोर्ड के सामने पेश होने का निर्देश

कोलकाता। कलकत्ता उच्च न्यायालय ने विसंगति के कारण गर्भ समापन की इच्छुक महिला को शनिवार को परीक्षण के लिए मेडिकल बोर्ड के सामने पेश होने का निर्देश दिया है।

न्यायमूर्ति तपब्रत चक्रवर्ती ने शुक्रवार को महिला का गर्भ 25 हफ्ते का हो जाने की स्थिति की गंभीरता को देखते हुए पश्चिम बंगाल के अतिरिक्त महाधिवक्ता को बोर्ड की रिपोर्ट सोमवार को पेश करने का निर्देश दिया। इस महिला ने जांच के दौरान गर्भ में बच्चे का मस्तिष्क ठीक से विकसित नहीं होने के तथ्य का पता चलने पर गर्भ समापन की अनुमति के लिये उच्च न्यायालय में याचिका दायर की है।

अदालत ने कहा कि जांच रिपोर्ट देखकर लगता है कि भ्रूण का मस्तिष्क विकसित नहीं हो पाया है। ऐसी स्थिति में असामान्य बच्चे के जन्म लेने की आशंका है।

यह भी कहा गया है कि रिपोर्ट के मुताबिक इस तरह के भ्रूण से महिला की जान को खतरा हो सकता है। न्यायमूर्ति चक्रवर्ती ने याचिकाकर्ता को परीक्षण के लिए शनिवार सुबह एसएसकेएम अस्पताल के निदेशक के जरिए मेडिकल बोर्ड के सामने पेश होने का निर्देश दिया है।

अतिरिक्त महाधिवक्ता अभ्रतोष मजूमदार ने इससे पहले अदालत को बताया कि इन उद्देश्यों के लिए सभी राज्यों में स्थायी मेडिकल बोर्ड के गठन के केंद्र सरकार के अनुरोध पर पश्चिम बंगाल सरकार ने आईपीजीएमईआर में इस तरह का बोर्ड बनाया है।

57 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।