शहीद जवान के परिवार ने बदला लेने को कहा

हावड़ा। जम्मू कश्मीर में सीआरपीएफ के काफिले पर भयानक फिदाई हमले में मारे गए जवान बबलू संत्रा के परिवार ने मांग की है कि शहादत का बदला लिया जाए और आतंकियों को ऐसी सीख दी जाए जो वे कभी ना भूल पाए। शहीद जवान के भांजे रघुबीर मंडल ने सीआरपीएफ अधिकारियों से फोन पर उनकी मौत की खबर मिलने के बाद शुक्रवार को यह बात कही। संत्रा के परिवार में पत्नी, चार साल की बेटी और मां है।

संत्रा के परिवार में उनकी पत्नी और मां बिलख-बिलख कर रो रही हैं। उनकी चीख-पुकार को सुनकर परिवार के अन्य सदस्यों और दोस्तों ने कहा कि वे वीभत्स आतंकवादी हमले में जवानों की शहादत का बदला चाहते हैं। संत्रा हमेशा मंडल को देश की सेवा करने के लिए सुरक्षा बल में शामिल होने के वास्ते प्रेरित करते रहते थे। मंडल ने कहा, ‘‘हम चाहते हैं कि मामा और अन्य लोगों की मौत का बदला लिया जाए। इस कायरतापूर्ण हमले की पीछे जिम्मेदार लोगों को ऐसी सीख दी जाए जो वे कभी भुला ना पाए।’’  उन्होंने बताया कि संत्रा ने जब डेढ़ महीने पहले छुट्टी पर घर आए थे तब भी उन्होंने उससे केंद्रीय अर्द्धसैन्य बल की परीक्षा की तैयारी करने के लिए कहा था। मंडल ने बताया कि परिवार को पहले सीआरपीएफ की ओर से फोन आया कि संत्रा हमले में घायल हो गए हैं। कुछ घंटे बाद 38 वर्षीय जवान की मौत हो गई। उन्होंने बताया कि पश्चिम बंगाल में हावड़ा जिले के चक्काशी राजबंशीपाड़ा गांव के रहने वाले संत्रा 2000 में सीआरपीएफ में शामिल हुए थे जब वह उलुबेरिया कॉलेज में प्रथम वर्ष के छात्र थे।

संत्रा अपने पिता की मौत के बाद मछली बेचकर मुश्किल से अपना परिवार चलाते थे। उनके भतीजे ने बताया, ‘‘मामा बहुत मेहनती इंसान थे। उन्होंने मेरे नाना की मौत के बाद अपना परिवार चलाने के लिए पढ़ाई के साथ-साथ मछली बेची।’’ मंडल ने बताया कि संत्रा तकरीबन एक साल में सेवानिवृत्ति के बाद अपने परिवार के साथ वक्त बिताना चाहते थे और अपना कारोबार शुरू करना चाहते थे लेकिन वह नहीं कर सके।

 

59 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।