91 फीसदी लोग रियर सीट बेल्ट का नहीं करते उपयोग

नई दिल्ली। देश में 90 फीसदी से अधिक लोग यात्री वाहनों में रियर सीट बेल्ट का उपयोग नहीं करते हैं और इस सीट बेल्ट के उपयोग को अनिवार्य बनाने वाले कानून के बारे में भी मात्र 27.7 प्रतिशत लोग ही जानते हैं। यात्री वाहन बनाने वाली कंपनी निसान इंडिया और सेवलाइफ फाउंडेशन की शनिवार को यहां जारी एक रिपोर्ट में यह दावा किया गया है।

केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने इस रिपोर्ट को जारी किया और कहा कि देश में बुनियादी सुविधाओं के विकास में जारी तेजी के मद्देनजर सड़क सुरक्षा बेहद महत्वपूर्ण हो गया है। नीतिगत हस्तक्षेपों और जागरूकता के लिए जा रहे प्रयासों के साथ सरकार सड़क सुरक्षा को बुत महत्व दे रही है। उन्होंने कहा कि भारतीय कार्पोरेट क्षेत्र और सिविल सोसायटी मिलकर सड़क सुरक्षा को एक आंदोलन का रूप दे सकते हैं जिससे लोगों में जागरूकता आयेगी और दुर्घटनाओं में कमी आयेगी। मोटर वाहन कानून 1988 के तहत बनाये गये केन्द्रीय मोटर वाहन नियम में ऑटोमोबाइल कंपनियों को वाहनों में ड्राइवर, फ्रंट यात्री सीट के साथ ही ड्राइवर के पीछे की सीट पर बेल्ट लगाने को अनिवार्य बनाया गया है। केन्द्रीय मोटर वाहन नियम की धारा 138 (3) में इस रियर सीट बेल्ट के उपयोग का भी अनिवार्य बनाया गया है।

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि मुंबई, दिल्ली और बेंगलुरू जैसे बड़े शहरों में 98.2 प्रतिशत लोग रियर सीट बेल्ट का उपयोग नहीं करते हैं जबकि लखनऊ , जयपुर और कोलकता में कोई भी व्यक्ति इस बेल्ट का उपयोग नहीं करता है। यात्री वाहन मालिकों में से 70.5 प्रतिशत को यह पता है कि उनके वाहन में रियर सीट बेल्ट है और उनमें से मात्र 7 प्रतिशत ही इसका नियमित तौर पर उपयोग करते हैं।

वाहन बैठने के दौरान रियर सीट बेल्ट लगाने को अनिवार्य बनाये जाने के बारे में जां 27.7 प्रतिशत लोग जानते हैं वहीं 37.8 प्रतिशत लोगों को इस कानून के बारे में जानकारी नहीं है। हालांकि सर्वेक्षण में शामिल लोगों में से 23.9 प्रतिशत लोग रियर सीट बेल्ट को लेकर जागरूक नहीं हैं। रिपोर्ट के अनुसार इसमें शामिल ऐसे लोग जो अपने बच्चों को पिछली सीट पर बैठते हैं उनमें से 77 फीसदी का कहना था कि वे इस सीट बेल्ट का उपयोग नहीं करते हैं।

रिपोर्ट में कहा कि गया है रियर सीट बेल्ट के उपयोग में बढोतरी नहीं होने का एक प्रमुख कारण इस संबंध में बने कानून का कमजोर क्रियान्वयन है। सर्वेक्षण में शामिल लोगों में से 91 फीसदी ने कहा है कि रियर सीट बेल्ट का उपयोग नहीं करने पर पुलिस ने कभी भी उन्हें नहीं रोका है।

87 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।