पंकज शर्मा All Article

बीजिंग की दूरबीन से दिखती रायसीना पहाड़ी

पिछले पूरे हफ़्ते मैं चीन की राजधानी बीजिंग में था। चीन की संसद--नेशनल पीपुल्स कांग्रेस--का सत्र चल रहा था। चीन की सर्वोच्च राजनीतिक सलाहकार समिति की बैठक भी इसी बीच बीजिंग में हो रही थी। और पढ़ें....

देशभक्ति के अभिभावक बनिए, द्वारपाल नहीं

युद्ध-उन्माद के काले माहौल में अपने प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी को झूम-झूम कर विज्ञापन-कवि प्रसून जोशी की लिखी ‘मैं देश नहीं मिटने दूंगा’ गाते देख मेरे रोम-रोम में उठी तरंगें ऐसी अमिट होती जा रही हैं कि लगता है और पढ़ें....

मोदी का बघनखा बनाम राहुल का व्याकरण

प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी को यह अहसास हो गया है कि उनकी सरकार इस बार का सावन नहीं देखेगी। सो, गुरुवार को लोकसभा में राष्ट्रपति के बजट अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर बोलते हुए उनके मुंह से निकल गया और पढ़ें....

पिद्दों की पिकनिक-टोली से ढहते साम्राज्य की कथा

अगलिए-बगलिए अगर अनुभवहीन हों तो बड़ा-से-बड़ा सफ़ीना भी कैसे डूब जाता है, नरेंद्र भाई मोदी इसकी ताज़ा मिसाल हैं। कम-से-कम दस, और वैसे, बीस-पचास साल राज करने आई भारतीय जनता पार्टी की सरकार पचास महीने पूरे होते-होते ही चीं बोल गई। और पढ़ें....

प्रियंका, राहुल, सियासी गिल्ली-डंडा और अश्वमेध

प्रियंका गांधी की बलैयां लेने को कम-से-कम डेढ़ दशक से आतुर बैठे सियासत के सेकुलर-गलियारों के लिए यह बुधवार वह बयार ले कर आया है, जिसका बहाव जैसे-जैसे तेज़ होगा, और पढ़ें....

खच्चर-मुक्त घुड़साल के इंतज़ार में राहुल

तीन राज्यों में जीत के बाद खुद ही खुद की पीठ थपथपा रहे कांग्रेस के प्रादेशिक शिल्पकार अपनी गदगद-मुद्रा से अगर जल्दी ही बाहर नहीं आए तो अप्रैल-मई में हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी से होने वाले मल्ल-युद्ध में वे कहीं लड़खड़ा न जाएं! और पढ़ें....

कमलनाथ, दिग्विजय, सिंधिया और सभा-पर्व

मैं इस हफ्ते भोपाल में था। भोपाल का ताल पंद्रह बरस बाद हिलोरें ले रही नई सियासी-तालों से ताल मिलाने के लिए पांव थिरका रहा है। और पढ़ें....

सिंहासन का दायित्व-बोध उनके ठेंगे पर

भारत के अच्छे दिन लाने की शपथ ले कर सत्ता में आए और साढ़े चार बरस में देश को सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक संस्कारों के पाषाण-काल में खींच ले गए हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी ने और कुछ चुराया है या नहीं, और पढ़ें....

मोदी का पूर्ण-विराम और भाजपा का अर्द्ध-विराम

दो दिन बाद 2019 शुरू हो जाएगा। नरेंद्र भाई मोदी के पराक्रम तले कराहती मौजूदा लोकसभा का कार्यकाल 154 दिन बाकी रह जाएगा। 3 जून की सांझ ढलने के पहले 17वीं लोकसभा का गठन होना है। और पढ़ें....

कमलनाथ, गहलोत और बघेल का कर्मयोग

मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकारें अगर इस बार न बनतीं और तेलंगाना और मिजोरम में लोगों ने भारतीय जनता पार्टी को दूर से ही प्रणाम न कर दिया होता और पढ़ें....

← Previous 123456789
(Displaying 1-10 of 87)
पंकज शर्मा

पंकज शर्मा

newsviewscorporation@gmail.com